aarti

Kalabhairava Ashtakam

Kalabhairava Ashtakam ( कालभैरवाष्टकम् )

कालभैरवाष्टकम् लिरिक्रस – देवराजसेव्यमानपावनांघ्रिपङ्कजंव्यालयज्ञसूत्रमिन्दुशेखरं कृपाकरम् ।नारदादियोगिवृन्दवन्दितं दिगंबरंकाशिकापुराधिनाथकालभैरवं भजे ॥1॥ भानुकोटिभास्वरं भवाब्धितारकं परंनीलकण्ठमीप्सितार्थदायकं त्रिलोचनम् ।कालकालमंबुजाक्षमक्षशूलमक्षरंकाशिकापुराधिनाथकालभैरवं भजे ॥2॥ शूलटङ्कपाशदण्डपाणिमादिकारणंश्यामकायमादिदेवमक्षरं निरामयम् ।भीमविक्रमं प्रभुं विचित्रताण्डवप्रियंकाशिकापुराधिनाथकालभैरवं भजे ॥3॥ भुक्तिमुक्तिदायकं प्रशस्तचारुविग्रहंभक्तवत्सलं स्थितं समस्तलोकविग्रहम् ।विनिक्वणन्मनोज्ञहेमकिङ्किणीलसत्कटिंकाशिकापुराधिनाथकालभैरवं भजे ॥4॥ धर्मसेतुपालकं त्वधर्ममार्गनाशकंकर्मपाशमोचकं सुशर्मदायकं विभुम् ।स्वर्णवर्णशेषपाशशोभिताङ्गमण्डलंकाशिकापुराधिनाथकालभैरवं भजे ॥5॥ रत्नपादुकाप्रभाभिरामपादयुग्मकंनित्यमद्वितीयमिष्टदैवतं निरंजनम् ।मृत्युदर्पनाशनं करालदंष्ट्रमोक्षणंकाशिकापुराधिनाथकालभैरवं भजे ॥6॥ अट्टहासभिन्नपद्मजाण्डकोशसंततिंदृष्टिपातनष्टपापजालमुग्रशासनम् ।अष्टसिद्धिदायकं कपालमालिकाधरंकाशिकापुराधिनाथकालभैरवं भजे ॥7॥ भूतसंघनायकं विशालकीर्तिदायकंकाशिवासलोकपुण्यपापशोधकं विभुम् ।नीतिमार्गकोविदं पुरातनं जगत्पतिंकाशिकापुराधिनाथकालभैरवं भजे […]

Kalabhairava Ashtakam ( कालभैरवाष्टकम् ) यहाँ पढ़े

Shani Dev Ki Aarti

Shani Dev Ki Aarti , शनिवार को पूजा के दौरान जरूर करें शनि देव की आरती, हर मनोकामना होगी पूरी

आरती: श्री शनिदेव – जय जय श्री शनिदेव (Shri Shani Dev Ji) जय जय श्री शनिदेव भक्तन हितकारी ।सूरज के पुत्र प्रभु छाया महतारी ॥॥ जय जय श्री शनिदेव..॥श्याम अंक वक्र दृष्ट चतुर्भुजा धारी ।नीलाम्बर धार नाथ गज की असवारी ॥॥ जय जय श्री शनिदेव..॥ क्रीट मुकुट शीश रजित दिपत है लिलारी ।मुक्तन की माला

Shani Dev Ki Aarti , शनिवार को पूजा के दौरान जरूर करें शनि देव की आरती, हर मनोकामना होगी पूरी यहाँ पढ़े

Tulsi ji ki aarti, तुलसीजी की आरती करने के लाभ और आरती की विधि

Tulsi Mata ki aarti माँ की पूजा पवित्र तुलसी के पौधे या तुलसीजी के कई शारीरिक और आध्यात्मिक लाभ हैं। ऐसा माना जाता है कि इसका मन और आत्मा पर आध्यात्मिक सफाई प्रभाव पड़ता है, जिसके परिणामस्वरूप घर में सद्भाव और धन की प्राप्ति होती है। जय जय तुलसी माता, मैय्या जय तुलसी माता ।सब

Tulsi ji ki aarti, तुलसीजी की आरती करने के लाभ और आरती की विधि यहाँ पढ़े

Kaal Bhairav Ashtakam

Kaal Bhairav Ashtakam, इस गीत के जप से भय और बुरी ऊर्जा के खिलाफ रक्षक के रूप में, काल भैरव को उन भक्तों द्वारा सम्मानित किया जाता है जो बहादुर और संरक्षित महसूस करते हैं।

Kaal Bhairav Ashtakam lyrics Aur Arth ke sath, काल भैरव अष्टकम लिरिक्स और अर्थ के साथ। इस गीत के जप से भय और बुरी ऊर्जा के खिलाफ रक्षक के रूप में, काल भैरव को उन भक्तों द्वारा सम्मानित किया जाता है जो बहादुर और संरक्षित महसूस करते हैं। देवराजसेव्यमानपावनांघ्रिपङ्कजंव्यालयज्ञसूत्रमिन्दुशेखरं कृपाकरम्। नारदादियोगिवृन्दवन्दितं दिगंबरं|काशिकापुराधिनाथकालभैरवं भजे॥1॥ भानुकोटिभास्वरं भवाब्धितारकं

Kaal Bhairav Ashtakam, इस गीत के जप से भय और बुरी ऊर्जा के खिलाफ रक्षक के रूप में, काल भैरव को उन भक्तों द्वारा सम्मानित किया जाता है जो बहादुर और संरक्षित महसूस करते हैं। यहाँ पढ़े

Lagan Tumse Laga Baithe

Lagan Tumse Laga Baithe Lyrics, यह भजन ईश्वरवाद के साथ-साथ आत्मिक विकास में सहायक होता है, जिससे व्यक्ति का उद्देश्य और आध्यात्मिक विचारधारा उत्पन्न होती है।

लगन तुमसे लगा बैठे जो होगा देखा जाएगा भजन लिरिक्स लगन तुमसे लगा बैठे, जो होगा देखा जाएगा ।जो होगा देखा जाएगा, जो होगा देखा जाएगा ।जो होगा देखा जाएगा…तुम्हें अपना बना बैठे, जो होगा देखा जाएगा…लगन तुमसे, लगा बैठे… मैं था भटका हुआ राही, मुझे मंज़िल मिली तुमसे ।मुझे मंज़िल मिली तुमसे…कि अब दुःख

Lagan Tumse Laga Baithe Lyrics, यह भजन ईश्वरवाद के साथ-साथ आत्मिक विकास में सहायक होता है, जिससे व्यक्ति का उद्देश्य और आध्यात्मिक विचारधारा उत्पन्न होती है। यहाँ पढ़े

Scroll to Top